दीपावली, कवि नीरज और – जलाओ दिये पर रहे ध्यान इतना

2018-11-06T10:41:02+00:00

दीपक अंधकार पर रोशनी का, अज्ञान पर ज्ञान और असत्य पर सत्य का प्रतीक है. दीया स्वयं जलकर दूसरों को प्रकाश देता है. भारत में दीपावली के पीछे यह सोच भी है कि दूसरों की मदद करें. 'अपने लिए जीये तो क्या जीये, तू जी ऐ दिन जमाने के लिए' की तर्ज पर यह भारतीय परंपरा है, जो निजता में नहीं बल्कि सेवा, सहयोग और समाजसेवा में विश्वास रखती है. इसीलिए जब भी दीवाली आती है, महाकवि गोपालदास नीरज की यह कविता जरूर याद आती है. दीपोत्सव की शुभकामनाओं के साथ जागरण हिंदी के पाठकों के लिए महाकवि का यह कालजयी गीत.. जलाओ दिये पर रहे ध्यान इतना

जलाओ दिये पर रहे ध्यान इतना
अँधेरा धरा पर कहीं रह न जाए

नई ज्योति के धर नये पंख झिलमिल,
उड़े मर्त्य मिट्टी गगन-स्वर्ग छू ले,
लगे रोशनी की झड़ी झूम ऐसी,
निशा की गली में तिमिर राह भूले,
खुले मुक्ति का वह किरण-द्वार जगमग,
उषा जा न पाए, निशा आ ना पाए।

जलाओ दिये पर रहे ध्यान इतना
अँधेरा धरा पर कहीं रह न जाए

सृजन है अधूरा अगर विश्व भर में,
कहीं भी किसी द्वार पर है उदासी,
मनुजता नहीं पूर्ण तब तक बनेगी,
कि जब तक लहू के लिए भूमि प्यासी,
चलेगा सदा नाश का खेल यों ही,
भले ही दिवाली यहाँ रोज आए।

जलाओ दिये पर रहे ध्यान इतना
अँधेरा धरा पर कहीं रह न जाए

मगर दीप की दीप्ति से सिर्फ़ जग में,
नहीं मिट सका है धरा का अँधेरा,
उतर क्यों न आएँ नखत सब नयन के,
नहीं कर सकेंगे हृदय में उजेरा,
कटेगे तभी यह अँधेरे घिरे अब
स्वयं धर मनुज दीप का रूप आए

जलाओ दिये पर रहे ध्यान इतना
अँधेरा धरा पर कहीं रह न जाए

About the Author:

Leave A Comment