वाणी प्रकाशन और हार्पर कॉलिंस ने मिलाया हाथ

2018-10-06T13:08:15+00:00

नई दिल्लीः प्रकाशन बाजार भी विदेशी निवेश की तरफ बढ़ रहा है. हार्पर कॉलिंस भारत और देश में हिंदी के बड़े प्रकाशक वाणी प्रकाशन ने इस दिशा में हाथ मिलाया है और एक संयुक्त प्रकाशन उपक्रम की घोषणा की है. जनवरी 2019 से यह नया उपक्रम एक-दूसरे के साथ काम करने लगेगा और एक-दूसरे के प्रकाशनों को क्रमशः हिंदी और अंग्रेजी में प्रकाशित करेगा. इस समझौते के तहत हार्पर कॉलिंस के चुनिंदा अंग्रेजी प्रकाशनों को वाणी प्रकाशन हिंदी में और वाणी प्रकाशन के चर्चित हिंदी प्रकाशनों को हार्परकॉलिंस अंग्रेजी में प्रकाशित करेगा. इतना ही नहीं नए लेखकों की रचनाएं दोनों ही प्रकाशनों द्वारा दोनों ही भाषाओं में एक साथ की जाएंगी. वाणी प्रकाशन की कार्यकारी निदेशक अदिति माहेश्वरी इस समझौते से काफी उत्साहित हैं. उनका कहना है कि जब हर क्षेत्र में विदेशी निवेश और समझौता बढ़ रहा है, तो प्रकाशन क्षेत्र भी इससे अछूता रहे. हार्पर कॉलिंस के साथ इस साझा उपक्रम पर उनका कहना है कि  हार्पर कॉलिंस भारत ने दुनिया के कई बड़े और प्रतिष्ठित अंग्रेजी लेखकों की रचनाओं के प्रकाशन के साथ ही दक्षिण एशियाई अंग्रेजी लेखकों की रचनाओं के प्रकाशन से एक खास पहचान बनाई है. हमें खुशी है कि इन वैश्विक स्तर पर प्रतिष्ठित लेखकों की आवाज अब हिंदी के पाठकों तक भी पहुंचेगी. साथ ही हिंदी की श्रेष्ठ रचनाएं हार्परकॉलिंस भारत की मार्फत विश्व के एक बड़े भू-भाग के पाठकों को सुगमता से उपलब्ध हो सकेंगी.

 

वाणी प्रकाशन के प्रबंध निदेशक अरुण माहेश्वरी का कहना है कि भारतीय साहित्य जगत का बाजार अपनी विविधता के लिए जाना जाता है. हम पिछले चार दशकों से राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय लगभग बीस से भी अधिक भाषाओं के अनुवाद से तो जुड़े ही हैं, छह भारतीय भाषाओं के प्रकाशन में भी उतर चुके हैं. हार्पर कॉलिंस के संयुक्त सहयोग से हम आशान्वित हैं कि हमारे हिंदी पाठक दक्षिण एशियाई देशों की समृद्ध लेखनी को पढ़ सकेंगे. हार्पर कॉलिंस भारत के प्रकाशक उदयन मित्रा इस साझेदारी से काफी खुश हैं और उनका कहना है कि इस संयुक्त प्रकाशन योजना के तहत हम बेहतरीन गद्य और कथेतर किताबों की एक पूरी नई खेप तो छापेंगे ही हार्पर कॉलिंस के श्रेष्ठ किताबों के साथ ही अंग्रेजी अनुवाद भी प्रकाशित करेंगे. हार्पर कॉलिंस भारत के मुख्य कार्यकारी अनंत पद्मनाभन के अनुसार यह नए पाठकों तक पहुंचने की हमारे दोनों प्रकाशनों की प्रतिबद्धता भरी सोच से जुड़ा संयुक्त प्रयास है, और हमें उम्मीद है कि इस साक्षेदारी से हमें प्रकाशन बाजार में एक ठीकठाक बढ़त मिलेगी.HI

About the Author:

Leave A Comment