दैनिक जागरण हिन्दी बेस्टसेलर – अक्टूबर से दिसंबर 2017 2018-02-02T16:13:16+00:00

हिन्दी बेस्टसेलर – अक्टूबर से दिसंबर 2017

दैनिक जागरण हिंदी बेस्ट सेलर की तीसरी सूची का अनावरण अंतराष्ट्रीय स्तर पर चर्चित और बेहद प्रतिष्ठित जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के पहले दिन किया गया। इस सूची को मशहूर लेखिका और जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल की डायरेक्टर नमिता गोखले, जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल को आयोजित करने वाली संस्था टीमवर्क्स के मैनेजिंग डायरेक्टर संजोय के रॉय और दैनिक जागरण के एक्जीक्यूटिव एडिटर विष्णु प्रकाश त्रिपाठी ने जारी किया। दैनिक जागरण हिंदी बेस्टसेलर की सूची जारी करने के पहले विष्णु त्रिपाठी ने दैनिक जागरण की पहल ‘हिंदी हैं’ हम पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने दैनिक जागरण हिंदी बेस्टसेलर सूची के पीछे जागऱण समूह की सोच को भी श्रोताओं के साथ साझा किया। उनका कहना था कि इस सूची के पीछे की सोच पठनीयता की दृष्टि से पाठकों की पढ़ने की प्रवृत्ति का विकास करना, लेखकों की वृत्ति यानि उनके लेखन के आयाम को विस्तार देना और प्रकाशकों का अकादमिक समृद्धि है, जिसका समुच्चय हिंदी की अभिवृद्धि है। दैनिक जागरण की इस पहल का स्वागत करते हुए नमिता गोखले ने कहा कि दैनिक जागरण की यह पहल हिंदी की सर्वश्रेष्ठ पहल है और इस सूची को लेकर और आगे बढ़ने की जरूरत है। संजोय राय ने भी दैनिक जागरण की इस पहल की सराहना करते हुए कहा कि इससे हिंदी की प्रतिष्ठा में इजाफा होगा। दैनिक जागरण हिंदी बेस्ट सेलर की सूची में कथा, कथेतर और अनुवाद की श्रेणियों में दस दस पुस्तकों की सूची प्रकाशित की जाती है। दैनिक जागरण बेस्टसेलर की पहली सूची दिल्ली में और दूसरी सूची दैनिक जागरण के अभिव्यक्ति के उत्सव संवादी में लखनऊ में जारी की गई थी।

दैनिक जागरण हिंदी बेस्टसेलर की सूची जारी करने के बाद हिंदी साहित्य जगत पर इसके प्रभावों पर चर्चा हुई जिसमें वरिष्ठ लेखिका और उपन्यासकार चित्रा मुदगल और साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त लेखिका अलका सरावगी ने हिस्सा लिया। चित्रा मुद्गल ने दैनिक जागरण हिंदी बेस्टसेलर सूची को एक सकारात्मक पहल करार दिया। उन्होंने ये कहा कि इस सूची में क्लासिक का दर्जा प्राप्त कर चुकी कृतियों का इस सूची में ना आना खटकता है। लेकिन उन्होंने खुद ही इस बात को भी साफ किया कि ये बेस्टसेलर यानि सबसे ज्यादा बिकने वाली पुस्तकों की सूची है। जो कि पुस्तकों की दुकानों और ऑनलाइऩ सेल को मिलाकर तैयार की जाती है। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए चित्रा मुद्गल ने जोर देकर कहा कि हमें इस सूची पर कई तरह की आपत्तियां हो सकती हैं लेकिन उन आपत्तियों से इसका महत्व कम नहीं होता है। इस सूची में जिस तरह के लेखकों के नाम आ रहे हैं वो हमें आश्वस्त तो करते ही हैं। चित्रा मुद्गल ने अपने दौर को याद करते हुए कहा कि उस दौर में कई ‘क्लासिक’ और ‘गंभीर’ लेखन करनेवाले लेखक थे और गुलशन नंदा भी लिख रहे थे। गुलशन नंदा की किताबें हम सबसे से ज्यादा बिकती थीं। लेकिन इससे गुलशन नंदा का महत्व कम नहीं हो जाता है। इसी तरह से ज्यादा बिकनेवाले लेखकों का महत्व कम नहीं होता है। हिंदी के विकास में उऩकी भी एक भूमिका है। उन्होंने तीन साल पहले लिखे उपन्यास अपने ‘नाला सोपारा, पो. बॉक्स नंबर 203’ और बेस्टसेलर सूची में आए नवोदित लेखक भगवंत अनमोल के उपन्यास ‘जिंदगी 50-50’ का उदाहरण दिया। उन्होंने कहा कि ‘कई लोगों ने उनको कहा कि दोनों उपन्यासों की कथाभूमि एक ही है और दोनों किन्नरों के जीवन पर आधारित है। वो इस सूची में आ सकता है तो आप क्यों नहीं।‘ चित्रा मुद्गल के मुताबिक उन्होंने दोनों उपन्यासों की तुलना करनेवालों की आपत्तियों को खारिज कर दिया और कहा नई पीढ़ी अपने तरीके से अपनी सोच के आधार पर लिखती है जिसका स्वागत किया जाना चाहिए। नई पीढ़ी अपनी पुस्तकों की बिक्री को लेकर सोशल मीडिया से लेकर तमाम उपलब्ध साधनों का उपयोग करती है जिसमें हमारी पीढ़ी के लोग जरा पीछे रह जाते हैं। कोलकाता से आई उपन्यासकार अलका सरावगी ने चित्रा मुदगल की कई बातों से असहमति जताई । उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि बेस्टसेलर की सूची के साथ बिक्री के आंकड़ों को भी जारी किया जाना चाहिए। उन्होंने इस बात को भी रेखांकित किया कि भगवतीचरण वर्मा और रेणु की पुस्तकें बेस्टसेलर की सूची में क्यों नहीं आती हैं। अलका सरावगी ने अपने उपन्यास की बिक्री के बारे में अपना एक अनुभव भी साझा किया। अलकी के मुताबिक जब उनका उपन्यास ‘जानकीदास तेजपाल मेंशन’ छपा था तो उन्होंने फेसबुक पर अपने पाठकों के सामने इस पुस्तक को खरीदने के विकल्प रखे थे और उसके अच्छे नतीजे आए थे। लेकिन बाद में हिंदी जगत में इस बात को लेकर बखेड़ा खड़ा हो गया । उनपर फेसबुक पर किताब बेचने के आरोप लगे। जे के रॉलिंग की किताब ‘हैरी पॉटर’ की बिक्री के आंकड़ों को पेश करके पश्चिमी देशों में बेस्टसेलर की अवधारणा को भी अलका सरवागी ने प्रस्तुत किया। अलका सरावगी ने ये भी कहा कि लेखक को बिकी के लिए तमाम तरह के यत्न नहीं करने चाहिए। उन्होंने कई तरह से बाजार पर प्रहार किए और कहा कि बाजार साहित्य की चीजें नहीं तय कर सकता है।  अलका की इन स्थापनाओं को लेकर चित्रा मुदगल ने हस्तक्षेप करते हुए कहा कि जब भी कोई भी लेखक प्रकाशक के पास अपनी पांडुलिपि लेकर जाता है तो उसकी ख्वाहिश होती है कि उसकी किताबें बिके। लेखकों को बाजार तो चाहिए। उन्होंने इस बात को रेखांकित किया कि बाजार से साहित्य का नुकसान नहीं होता है और ना ही हो सकता है बल्कि उसकी जगह बाजारवाद साहित्य के लिए खतरनाक है। चित्रा मुदगल के मुताबिक हिंदी के लेखकों को बाजार और बाजारवाद के फर्क को समझना होगा। अगर बाजार नहीं होता तो किताबें बिकेंगी कहां और लेखकों को रॉयल्टी कैसे मिलेगी। एक तरफ तो हम कम रॉयल्टी का रोना रोते हैं और दूसरी तरफ बाजार को कोसते हैं जो ठीक नहीं है। लेखकों को बाजारवाद के आसन्न खतरे से चित्रा मुदगल ने आगाह किया। दैनिक जागरण हिंदी बेस्टसेलर पर आयोजित सत्र का संचालन अनंत विजय ने किया।

दैनिक जागरण बेस्टसेलर की सूची जारी होने के मौके पर ऐसे भी कई लेखक और अनुवादक मौजूद थे जिनकी पुस्तकों को तीसरी सूची में स्थान मिला है। लेखिका अनु सिंह चौधरी की किताब ‘नीला स्कार्फ’ ने कथा श्रेणी में अपनी जगह बनाई। बेस्टसेलर सूची के जारी होने के बाद अनु सिंह चौधरी ने कहा कि ‘लिखनेवाले किरदार गढ़कर, कहानियां रचकर भूल जाते हैं और ऐसे में चली आई ये बेस्टसेलर की सूची याद दिला देती है कि पढ़नेवाले नहीं भूले आपकी किताब। ‘नीला स्कार्फ’ 2014 में प्रकाशित हुई थी। हैरान हूं, और शुक्रगुज़ार भी कि तीस से ज़्यादा शहरों में किताब की दुकानों से लोगों ने खरीदी है ये किताब, और पढ़ी भी। उनके पढ़ने का यकीन इसलिए है क्योंकि गाहे बगाहे पाठकों के ईमेल आ जाते हैं। इस सूची में होने की खुशी उतनी ही है जितनी अपने किसी पाठक के लिखे हुए ईमेल को पढ़कर होती है। सच कहूं तो बड़ा हौसला मिला है कि लिखना ज़ाया नहीं गया, और पढ़नेवाले ढूंढकर पढ़ रहे हैं आपकी किताब। यही कामना है कि इस सूची में हर तिमाही नए नाम जुड़ते रहें ताकि पढ़नेवालों के सिरहाने नई नई किताबें पढ़कर सहेजी जाती रहें। सीची में नाम आने पर अनुवादक उर्मिला गुप्ता और सुमन परमार ने भी खुशी जाहिर की।

1.बनारस टॉकीज

सत्य व्यास, हिंद युग्म

2. जिंदगी 50-50

भगवंत अनमोल, राजपाल एंड संस

3. मसाला चाय

दिव्य प्रकाश दुबे, हिंद युग्म

4. छबीला रंगबाज का शहर,

प्रवीण कुमार, राजपाल एंड संस

5. दो लोग

गुलजार, हॉर्पर कालिंस

6. नीलेश मिसरा का याद शहर भाग 1

नीलेश मिसरा. वेस्टलैंड बुक्स

7. इश्कियापा

पंकज दूबे, पेंग्विन रेंडम हाउस

8. नीला स्कार्फ

अनु सिंह चौधरी, हिंद युग्म

9. सिर्री

अबीर आनंद, जोरबा बुक्स

10. गोवा गलाटा

सुरेन्द्र मोहन पाठक, हॉर्पर कालिंस

1. व्यंग्य समय

नरेन्द्र कोहली, किताबघर प्रकाशन

2. तसलीमा, संघर्ष और साहित्य

मोहनकृष्ण बोहरा, वाणी प्रकाशन

3. लावा

जावेद अख्तर, राजकमल प्रकाशन

4. शोरूम में जननायक

अनूप मणि त्रिपाठी, अंजुमन प्रकाशन

5. हाशिए का राग

सुशील सिद्धार्थ, किताबघर प्रकाशन

6. एक महीना नज्मों का

इरशाद कामिल, वाणी प्रकाशन

7. विश्व मिथक सरित्सागर

रमेश कुंतल मेघ, वाणी प्रकाशन

8. कहानी कम्युनिस्टों की

लेखक संदीप देव, ब्लूम्सबेरी

9. रानी पद्मिनी, चित्तौड़ का प्रथम जौहर

ब्रजेन्द्र कुमार सिंघल वाणी प्रकाशन

10. अदृष्य भारत

भाषा सिंह, पेंग्विन रेंडम हाउस

1. द्रौपदी की महाभारत

चित्रा बनर्जी दिवाकरुणी, अनुवाद: आशुतोष गर्ग, मंजुल पब्लिशिंग हाउस

2. सीता, मिथिला की योद्धा

अमिश त्रिपाठी, अनुवाद: उर्मिला गुप्ता, बेस्टलैंड लिमिटेड

3. रिवोल्यूशन 2020

लेखक और अनुवाद: चेतन भगत, रूपा पब्लिकेशंस

4. मेरी गीता देवदत्त पटनायक

अनुवाद: सुमन परमार, रूपा पब्लिकेशंस

5. नागाओं का रहस्य

अमीश त्रिपाठी, अनुवाद: विश्वजीत सपना, वेस्टलैंड

6. सचिन तेंदुलकर, मेरी आत्मकथा

सचिन तेंदुलकर, अनुवाद: सुधीर दीक्षित, मंजुल पब्लिशिंग हाउस

7. वायुपुत्रों की शपथ

शिव रचना अमीश त्रिपाठी, अनुवाद: सुचेता मित्तल, वेस्टलैंड

8. मिसेज फनी बोन्स

ट्विंकल खन्ना, अनुवाद: अरुण आनंद, प्रभात प्रकाशन

9. डोंगरी से दुबई तक, मुंबई माफिया के छह दशक

एस हुसैन जैदी, अनुवाद: अनंत मित्तल, मंजुल पब्लिशिंग हाउस

10. इच्छवाकु के वंशज

अमीश त्रिपाठी, अनुवाद: उर्मिला गुप्ता, वेस्टलैंड
हिन्दी बेस्टसेलर - एक अभिनव प्रयास
और जानिए
हिंदी बेस्टसेलर के चयन का तरीका
और जानिए
नील्सन बुक्सकैन - परिचय
और जानिए