ई-संवादी 2018-01-16T12:56:06+00:00

ई-संवादी

बगैर आलोचक के पूरी नहीं होती रचना

By | January 22nd, 2018|

-- दैनिक जागरण मुक्तांगन की ओर से कार्यक्रम का हुआ आयोजन -आलोचकों पर सकारात्मक भूमिका निभाने का दबाव बनाते दिखे रचनाकारजागरण संवाददाता, नई दिल्ली, दैनिक जागरण की मुहिम 'हिंदी हैं [...]

नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेला 2018 एक यात्री की नज़र से…

By | June 28th, 2017|

यूँ तो पहले भी कई बार 'नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेले' में आना हुआ है, लेकिन इस बार माहौल कुछ बदला-बदला सा है। यह जो बदलाव है यह कई कारणों [...]